एक सफल  बिजनेसमेन बनना हर इंसान का सपना होता हैं परन्तु क्या आप जानते कि एक  सफल बिजनेसमेन बनने के लिए छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखना जरुरी होता हैं | आइये आज हम जानेंगे उन जरुरी बातो के बारे में जो एक सफल बिजनेसमेन बनने के लिए के जरुरी होती हैं -
                                                                                               
    1.)   आपका ध्यान समस्या पर हो, समस्या बताने वाले पर नहीं
समस्या बताने वाले कर्मचरियों की तारीफ क्यों करनी चाहिए जानिए Business Review से | यह भी जानिए की परफेक्शन किस तरह नुकसानदायक हो सकता हैं ?

   2.)   समस्याएं बताने वाले कर्मचारियों को प्रोत्साहन देने की जरुरत हैं
मतभेद रखने वाली आवाजें संस्थान को आगे बढ़ाने में मददगार साबित होती हैं | इसके बावजूद भी कई लीडर्स समस्याएं बताने वाले कर्मचारियों पर कान नही देते हैं | ऐसा करके आप संस्थान को आगे बढ़ने से रोकते हैं और बाकी कर्मचारियों को भी हतोत्साहित करते हैं | किसी को समस्याएं बताने पर रोकने की बजाय प्रोत्साहित करना चाहिए और उनकी तारीफ करनी चाहिए की उन्होंने बोलने का साहस दिखाया | आपका ध्यान समस्या पर होना चाहिए ना कि उसे आपके सामने लेकर आने वाले पर | यह मत बोलिए कि मैने सुन ली आपकी समस्या | कहिये कि मैं खुश हूं कि आपने हमें सुधरने का अवसर दिया |



   3.)   कहीं आपके काम का दुश्मन ना बन जाए परफेक्शन
हम सभी को काम में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करनी चाहिए लेकिन अगर हमेशा की परफेक्शन के लिए ज़िद करेंगे तो हो सकता हैं आप जरुरी डेडलाइन्स और अवसर छोड़ देंगे | इस तरह आप अपने साथियों को नाराज करेंगे | यदि आप अच्छेसे कभी संतुष्ट नही होते, तो अपनी टीम से बात करें | नतीजों और टाइमलाइन पर उनका Feedback लें | अपने सहकर्मियों से नियमित बात करें | प्रोजेक्ट के खत्म होने का इंतजार ना करें | अपनी प्रगति पर नजर रखें Check-Points भी बना सकते हैं | प्रयोग करके भी आप खुद को थोड़ी राहत दे सकते हैं | आप देखेंगे कि किस तरह परफेक्शनिज्म आपके रिश्तों पर असर करता हैं |




    4.)   अपने कर्मचारियों को महत्वपूर्ण कैसे महसूस करवा सकते हैं ?
कर्मचारियों को महत्वपूर्ण महसूस करवाने के लिए ज्यादा मेहनत नही करनी पड़ती हैं, केवल छोटीछोटी बातें ही मायने रखती हैं | हर कर्मचारी से नियमित तौर पर मिलें | उन्हें पूरी छूट दें कि वे जो कर रहें हैं वो आपको बता सकें | उन्हें एक संतुलित Feedback दें | तारीफ जरुरी हैं लेकिन कर्मचारी यह भी जानना चाहते हैं कि वे कहां सुधार कर सकते हैं | दोनों Feedback एक साथ ना दें | सकारात्मक Feedback को विकासात्मक Feedback से अलग ही रखें | आगे बढ़ने का अवसर देकर या असाइनमेंट देकर भी बता सकते हैं कि आप उन्हें कितना महत्व देते हैं | तारीफ करना अपनी आदत बना लें |